http://tramandustrendingcinema.blogspot.in/

Just another Jagranjunction Blogs weblog

3 Posts

1 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 25670 postid : 1330723

रचना

Posted On: 18 May, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कितनी छोटी सी रचना है ,
इसमें सारा जग अपना है ,
एक बीज ,की आत्म कथा ये ,
खुद सृष्टि, की संरचना है ,
एक बीज, के इस कोटर में ,
इस जीवन का सार छुपा है ,
पंच तत्व !की अनुभूति का, इसमें ही तो तार छुपा हैं ,
जल ,अग्नि ,आकाश, वायु और पृथ्वी के संगम से,
सहज ही आ जाता है, जीवन क्रूर कठोर बीज की,कोटर में,
हम बो कर गर भूल भी जाए ,प्रकृति ने अपनाया है
पंच तत्व का भोग लगा कर, हर जीवन महकाया है ,
हम भी तो इस पंचतत्व के ,संगम के उदाहरण है ,
एक बीज से जन्म हमारा ,ये तन मट्टी सजन हमारा,
जिस दिन साँसे रुक जाएगी ,पंचतत्व में खो जाएंगे
हम इस मिटटी के बन्दे है मिटटी में ही ,सो जायेंगे ,
इस उलझे से जीवन का, इतना सा है, सार, हमारा,
कितनी छोटी सी रचना है,
इसमें सारा जग अपना है। Planets-Hand-85126

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran